Indian Flag
भरती निविदाएं प्रशिक्षण आयोजन सामान्य OMs ईमेल
  संदेश »

जहां संयंत्र आधारित अनुसंधान नवाचार के माध्यम से जीवन को छूता है...

हमारे बारे में

राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान देश की अग्रणी राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं में से एक है जो कि वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद्, नई दिल्ली, के अन्तर्गत लखनऊ में कार्यरत है। यह संस्थान राष्ट्रीय वनस्पति उद्यान के रूप में राज्य सरकार के अंतर्गत कार्यरत था, जिसे 13 अप्रैल, 1953 को वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद् ने अधिग्रहीत कर लिया। उस समय से यह संस्थान वनस्पति विज्ञान के क्षेत्र में परम्परागत अनुसंधान करता आ रहा है। समय के साथ इसमें नये-नये विषयों पर अनुसंधान कार्य किये गये, जिनमें पर्यावरण संबंधित व आनुवांशिक अध्ययन प्रमुख थे। अनुसंधान के बढ़ते महत्व व बदलते स्वरूप को ध्यान में रखकर 25 अक्टूबर, 1978 को इसका नाम बदलकर राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान किया गया। इस नये नाम से संस्था का लक्ष्य पूर्ण रूप से परिलक्षित होता है। वर्तमान में संस्थान के पास लगभग 63 एकड़ भूमि पर वनस्पति उद्यान है जिसमें संस्थान की प्रयोगशालायें स्थापित हैं। इसके अतिरिक्त बंथरा में लगभग 260 एकड़ भूमि अनुसंधान हेतु उपलब्ध है जहाँ पर अनेक प्रयोग किये जा रहे हैं। संस्थान की छवि  वर्तमान में एक अंतर्राष्ट्रीय स्तर के संस्थान के रूप में है जिसके द्वारा प्रतिवर्ष अनेक उत्पाद विकसित किये जा रहे हैं तथा इनको विभिन्न उद्योग घरानों द्वारा व्यावसायिक स्तर पर बनाया जा रहा है। संस्थान द्वारा विकसित विभिन्न पुष्प प्रजातियाँ व गुलाल आज घर-घर में लोकप्रिय हैं।

अनुसंधान एवं विकास और आधारभूत ढांचे के क्षेत्रों
संस्थान के लक्ष्य और उद्देश्य उनके संबंधित गतिविधियों के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी समर्थन सेवाओं द्वारा समर्थित आर एंड डी के निम्नलिखित पाँच व्यापक क्षेत्रों के बीच वितरित विभिन्न परियोजनाओं के माध्यम से पीछा कर रहे हैं:


1.  वनस्पति उद्यान और दूर अनुसंधान केंद्र
2संयंत्र विविधता, व्यवस्था और वनस्पति संग्रहालय
3. संयंत्र पारिस्थितिकीय एवं पर्यावरण विज्ञान
4. जेनेटिक्स और आण्विक जीवविज्ञान
5. प्लांट सूक्ष्म जीव इंटरेक्शन और फार्माकोग्नॉसी
6. एस एंड टी समर्थन सेवा


दूर अनुसंधान केन्द्र


बंथरा रिसर्च सेंटर, बायोमास रिसर्च सेंटर और Aurawan रिसर्च सैंटर - सीएसआईआर-NBRI तीन दूर अनुसंधान केन्द्र है। ये लखनऊ कानपुर रोड पर, के बारे में 22 किमी दूर एनबीआरआई, लखनऊ से गांव बंथरा, के पास स्थित हैं। सभी तीन केन्द्रों ज्यादातर बड़े पैमाने पर आर्थिक महत्व के पौधों के विभिन्न प्रकार के प्रयोगात्मक cultivations जुटाने के लिए, साथ ही संस्थान द्वारा विकसित कृषि प्रौद्योगिकियों का प्रदर्शन करने के लिए विस्तार केन्द्र के रूप में सेवा करते हैं।

 

उद्देश्य

    • Basic and applied research on plant diversity and prospection, plant-environment interaction and biotechnological approches for plant improvement.
    • Development of technologies for new plant and microbial sources of commercial importance
    • Building up germplasm repository of plants of indigenous and exotic origin, including rare, endangered and threatened species
    • Providing expertise and assistance for identification, supply and exchange of plants and propagules, garden layout and landscaping
    • Dissemination of scientific knowledge and technologies on plants and microbial resources through publications, training, capacity building and extension activities

     

  •